Entertainment

Bhabi Ji Ghar Par Hain Aka Angoori Bhabi Shubhangi Atre: My Husband Piyush Left His Job To Look After Our Baby | Shubhangi Atre: एक साल की बेटी को घर पर छोड़कर ऑडिशन देने जाती थीं अंगूरी भाभी, बोलीं

Bhabi Ji Ghar Par Hain Aka Angoori Bhabi Shubhangi Atre: My Husband Piyush Left His Job To Look After Our Baby | Shubhangi Atre: एक साल की बेटी को घर पर छोड़कर ऑडिशन देने जाती थीं अंगूरी भाभी, बोलीं
Written by Arindam
Bhabi Ji Ghar Par Hain Aka Angoori Bhabi Shubhangi Atre: My Husband Piyush Left His Job To Look After Our Baby | Shubhangi Atre: एक साल की बेटी को घर पर छोड़कर ऑडिशन देने जाती थीं अंगूरी भाभी, बोलीं

भाबी जी घर पर हैं (Bhabi Ji Ghar Par Hain) में अंगूरी भाभी का किरदार निभाने वाली शुभांगी अत्रे (Shubhangi Atre) आज टेलीविजन इंडस्ट्री में जाना-माना नाम हैं. शुभांगी ने कई संघर्षों के बाद ये मुकाम हासिल किया है. टीवी की दुनिया में काफी स्ट्रगल के बाद उन्हें काम मिलना शुरू हुआ था. एक इंटरव्यू में शुभांगी ने अपनी लाइफ से जुड़े कुछ दिलचस्प खुलासे किए हैं. उन्होंने बताया कि जब वह 21 साल की थीं तो वह एक बेटी की मां बन चुकी थीं. तब उनकी लाइफ का स्ट्रगलिंग पीरियड चल रहा था.

ऐसे में उनके पति पियूष ने उनकी काफी मदद की और बेटी की परवरिश की जिम्मेदारी को बखूबी निभाया. शुभांगी ने कहा, मैं पुणे में थी और मेरे पति एडवर्टाइजिंग एजेंसी में काम करते थे, जब तक बेटी एक साल की नहीं हो गई, मैंने बेटी की जिम्मेदारी संभाली लेकिन फिर इसके बाद मैंने ऑडिशन देना शुरू कर दिए.

जब मुझे कसौटी ज़िंदगी के और कस्तूरी जैसी सीरियलों में काम मिलने लगा तो पति ने अपनी जॉब छोड़ दी ताकि मैं एक्टिंग में फोकस कर पाऊं. जब मैं करियर में थोड़ा सेटल हुई तो मैंने अपने शेड्यूल पर काम किया और फिर पियूष ने अपना काम दोबारा शुरू कर दिया.

शुभांगी ने आगे कहा, पति के अलावा, मेरे ससुराल वालों ने भी मेरी बराबरी से मदद की, जब भी हमें अपने पेरेंट्स की जरूरत पड़ती, वो हमारे पास आ जाते और हमारी मदद करते. शुभांगी ने आगे कहा कि जब उनकी बेटी छोटी थी तो उससे दूर रहना मुश्किल था लेकिन धीरे-धीरे सब मैनेज हो गया. जब मैं अपना पहला शो कर रही थीं और मुंबई में रह रही थी, मैं हर हफ्ते पुणे जाती थी ताकि अपनी बेटी से मिल पाऊं. जब पति और बेटी मुंबई शिफ्ट हो गए तो सब आसान हो गया. तब लोगों को लगता था कि मैं सही नहीं कर रही हूं, कई बार मुझे भी लगा लेकिन अब मेरी बेटी आशी कहती है सब सही था मम्मा. हम दोनों अब बेस्ट फ़्रेंड्स हैं.   

 

About the author

Arindam

Leave a Comment

%d bloggers like this: